ग्रह परिचय

ग्रह शुक्र, बुध, मंगल, बृहस्पति और शनि हैं जबकि राहु और केतू को संवेदनशील या छाया ग्रह माना जाता है।

ग्रह को अंग्रेजी भाषा में प्लैनेट (planet) कहा जाता है। यह शब्द ग्रीक भाषा के शब्द प्लैनेटिस (planētēs) से आया है। हिन्दू पौराणिक कथाओं में ग्रह के बारे में कहा गया है- ‘सम भवते सम ग्रह’। इसका मतलब है जो प्रभावित करता है उसे ग्रह कहा जाता है। ‘बृहत पराशर होरा शास्त्र'(अध्याय 2, पद्य 3-4) के अनुसार भगवान विष्णु के कुछ अवतार धीरे-धीरे ग्रहों के रूप में विकसित हो गए। ये ग्रह और इनकी स्थिति ही व्यक्तियों को उनके कर्मों या कार्यों का फल देती है।