ज्योतिष में मंगल का परिचय

मंगलज्योतिष के अनुसार मंगल सहन शक्ति, साहस, क्रोध, इच्छा, विरोधियों, अचल सम्पत्ति, दोस्त, दुश्मनी, ऊर्जा, हिंसा, क्रूरता, रक्त, शल्य चिकित्सा, आग, रक्षा, जुनून, घृणा, हिंसा, पाप, बहादुरी, शक्ति आदि का प्रतिनिधि है। अकसर इसे गुस्से और हिंसा से जोड़ा जाता है। यह ग्रह योद्धा का अर्थ दर्शाता है और व्यक्ति को स्वयं का सामना करने का हौंसला देता है। मंगल ग्रह व्यक्ति को स्वतंत्र व्यक्तित्व और आदर्शवाद प्रदान करता है। मंगल ही हमारे द्वारा चुने गए कार्य और उसे करने के तरीके को भी दर्शाता है। कहा जाता है कि मंगल ग्रह से संबंधित

 

 

मामलों में अहंकार का भाव रहता है। यह एक आक्रामक ग्रह है जो मानव जाति के बीच विभाजन और बंटवारे का कारण बनता है। लेकिन साथ ही ये व्यक्ति को हौसला और शारीरिक शक्ति भी प्रदान करता है। यह व्यक्ति को सफल होने के लिए मजबूत इच्छाशक्ति भी प्रदान करता है। मंगल व्यक्ति के पौरुष पक्ष को दर्शाता है। यह व्यक्ति को स्वभाव से आक्रामक, निर्णायक, उतावला और रूखा भी बनाता है। इसके साथ-साथ मंगल व्यक्ति को सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर बना देता है ताकि वो तमाम तरह की विसंगतियों का सफलतापूर्वक सामना कर सके। हिन्दू मान्यताओं के अनुसार मंगल को धरती पुत्र माना गया है। मिस्त्र के लोगों ने इसे हार्माकिस, बेबीलोवासियों ने नेरगाल और यूनानियों ने इसे अरेस यानी युद्ध का देवता कहा है जो ज़ीउस और हेरा का पुत्र है।

यह ग्रह किसी पर भी अपनी ऊर्जा का प्रभाव कैसे छोड़ेगा यह व्यक्ति की कुंडली पर निर्भर करता है। जिस भी भाव में मंगल बैठा होगा वह व्यक्ति के उस मनोवैज्ञानिक क्षेत्र को दर्शाएगा जिसमें व्यक्ति अपनी ऊर्जा को व्यक्त करता है। साथ ही मंगल की स्थिति ही बताती है कि व्यक्ति किस दिशा में सबसे ज्यादा गतिशील है, कहां वो उलझ रहा है और कहां सत्ता(ताकत) के मुद्दों का सामना कर रहा है।

मंगल और इसकी स्थिति व्यक्ति की विशेष आकर्षण के प्रति या विशिष्ट यौन प्राथमिकताओं के प्रति रुचि को दर्शाती है। यह दिखाता है कि व्यक्ति अपनी ऊर्जा किस कार्य में इस्तेमाल कर रहा है। अगर आपकी कुंडली में मंगल सही स्थिति में हो तो यह अपने से संबंधित कार्यों में व्यक्ति के प्रभावों को बढ़ा देता है लेकिन अगर ये सही स्थिति में नहीं हो तो आपको इस ग्रह से संबंधित क्षेत्र में सचेत रहने की जरूरत है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *