ज्योतिष में शनि देव का परिचय

शनि देव ज्योतिष के अनुसार शनि लम्बी आयु, दुख, आपदाओं, मृत्यु, गरीबी, पाप, भय, गोपनीयता, नौकरी, बेईमानी, कर्ज, कठिन परिश्रम, रोग, बाधा, बुढ़ापा, भाग्य, सीमाओं, गरीबी, दासता, क्रूर कर्मों आदि का प्रतीक है। शनि को महान स्वामी कहा जाता है। यह सीमाओं को दर्शाता है। शनि बताता है कि व्यक्ति को कहां पर कड़ी चुनौती और सबसे मुश्किल सबक मिलेगा। शनि आत्म सीमा, अनुशासन और योजना के माध्यम से शक्ति प्रदान करता है। यह व्यक्ति को अपने जीवन में की गई गलतियों से सीखने का मौका देता है और उसे बेहतर मनुष्य बनने में मदद करता है। शनि उम्र बढ़ने की प्रक्रिया और अंत में मौत का प्रतिनिधित्व करता है। यह निर्माण कार्यों से जुड़ा है और इसीलिए ज़मीन या भवन निर्माण आदि से जुड़े मामलों पर भी अपना प्रभाव डालता है।

अगर कोई व्यक्ति अपना सही लक्ष्य तय नहीं कर पाता, या उसने अपने पिछले जन्म में कुछ गलत कार्य किए थे तो उसे इस जन्म में परेशानियों का सामना करना पड़ता है और इन परेशानियों का कारण होता है शनि ग्रह। आपकी कुंडली में शनि जिस स्थान पर बैठा होगा आपको उस स्थान से संबंधित कार्य पर विशेष रूप से ध्यान देने की जरूरत होगी। ऐसी स्थिति में या तो आपको अपने कार्य करने के तरीके में बदलाव करना होगा या फिर उसे करते समय बहुत सावधान रहना होगा। शनि को भाग्य का ग्रह और कर्म का देवता भी माना जाता है। हिन्दू मान्यताओं के अनुसार शनि सूर्य और छाया के पुत्र हैं। मिस्र की पौराणिक कथाओं में शनि को स्वादेस ओसिरिस कहा गया है। कहा जाता है कि रोमनों ने क्रोनस को शनि में तबदील कर दिया था।

शनि किसी व्यक्ति पर अपना प्रभाव किस तरह छोड़ेगा यह उस व्यक्ति की कुंडली पर निर्भर करता है। कुंडली में जिस भी भाव या स्थान में शनि बैठा होगा वही स्थान बताएगा कि व्यक्ति को कहां पर कड़ी चुनौती और सबसे कठिन सबक मिलेगा। शनि की स्थिति ही व्यक्ति की राह में आने वाली कठिन चुनौतियों और सीमाओं को दर्शाती है। शनि और उसकी स्थिति उन क्षेत्रों को दर्शाती है जिसमें व्यक्ति को अपने आत्म-विश्वास में कमी महसूस होती है। इन क्षेत्रों में व्यक्ति दमित महसूस करता है और पहचान प्राप्त करने के लिए बेताब रहता है। अगर शनि आपकी कुंडली में सही जगह पर बैठा हो तो ये संबंधित स्थान के प्रभावों को बढ़ा देता है लेकिन अगर ये सही स्थान पर न बैठा हो तो व्यक्ति को उस स्थान से संबंधित क्षेत्र में सचेत रहने की जरूरत है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *