धनु राशि के लोगो का स्वभाव

धनु राशिधनु राशि के स्वामी बृहस्पति देव बनते हैं। बृहस्पति देव सोर मंडल के सबसे बड़े ग्रह होते हैं, इसी लिये इनको देवताओ के गुरु अर्थात देव गुरु भी कहा जाता है।   ब्रहस्पति देव धर्म आध्यात्म और ज्ञान के कारक होते हैं।
इसी कारण धनु राशी वाले भी सभी राशियों में से सबसे धार्मिक,ज्ञानी, सच्चे और विश्वास योग्य होते हैं।धनु राशी के लोग सरल स्वभाव , सम्मानित, और वफादार होते हैं।

इस राशी का प्रतीक एक धनुर है। जिसके पीछे घोड़े का शरीर जुड़ा होता है। उसी प्रकार धनु राशि वालों के अन्दर अश्व जैसी तीव्रता होती है।और इनका लक्ष्य एक धनुर की तरह साफ़ होता है।धनु राशि मे जन्मे लोग अपने जीवन में बड़े बड़े लक्ष्य बनाते हैं। एक बार जब ये अपना लक्ष्य निर्धारित कर लेते हैं, तो उसके बाद किसी की नही सुनते।

और धनुष से निकले तीर की तरह । सीधा अपने लक्ष्ये की और आगे बड़ते रहते हैं। और उसको हासिल करने के लिए कुछ भी कर सकते हैं। ये लक्ष्य से पीछे हटने की अपेक्षा चुनौतियों का सामना करना अधिक पसंद करते हैं । धनु राशि में जन्मे जातक अपने सपनो को सच करने की शमता रखते हैं। अपने लक्ष्य के प्रति हमेशा सचेत रहते हैं।

धनु राशि के जातक आध्यात्म, साहित्य, धर्म तथा शिक्षा के क्षेत्र से जु़डे रहते हैं। ये ज्ञान अर्जित करने के लिए कोई भी जोखिम ले सकते हैं।इस राशि के जातक धार्मिक होने के साथ-साथ बुद्धिमान भी होते हैं। ये न्यायप्रिय और ईमानदार होते हैं।ये गुप्त विद्याऔ और दर्शन शास्त्र के भी ज्ञाता होते हैं।

दूसरो को सही सलाह देना और मार्गदर्शन करना इनको अच्छा लगता है। ये हमेशा आशावादी रहते हैं । धनु राशि के लोग जीवन का अर्थ समझना चाहते हैं और हमेशाे सत्य की खोज में लगे रहते हैं । ये अपने अनुभव और ज्ञान को दूसरों के साथ अधिक से अधिक बांटना चाहते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *