वृश्चिक राशि के लोगो का स्वभाव

वृश्चिक राशिवृश्चिक राशि का स्वामी ग्रह मंगल देव बनते हैं । मंगल ग्रह जीवन में पराक्रम और उत्साह के कारक होते हैं। वृश्चिक  राशि वाले जन्म जात योद्धा होते हैं। इनकी शारीरिक बनावट से  इनकी शक्ति का अंदाज़ा लगाया जा सकता हैं।
इनका स्वामी मंगल अग्नि ग्रह हैं। यही कारण है कि वृश्चिक जातक साहसी, और दॄड़ इच्छाशक्ति वाले होते हैं।

ऐसे व्यक्ति धार्मिक गंभीर,जिद्दी,चतुर, बहादुर,पराक्रमी और निडर होते हैं।ये कठिन काम और मेहनत करने से घबराते नहीं हैं । ये अवसरो का भरपूर फ़ायदा उठाना चाहते हैं।इनमें शारीरिक व मानसिक शक्ति प्रचुर मात्रा में होती है।

वृश्चिक राशिका प्रतीक एक बिच्छू होता हैं। ये बहुत ईर्ष्यालु हो सकते हैं। लेकिन अक्सर इनकी  ईर्ष्या ही  इनकी सफलता के लिए ईंधन का काम करती हैं । वृश्चिक राशि में जन्मे लोगो को आमतौर पर हल्के में नही  लिया जा सकता हैं ।

 

ये बहादुर होते हैं और इसलिए इनके अनेक मित्र होते हैं। ये बहुत वफादार दोस्त हो सकते हैं । और उसी समय में, ये बहुत खतरनाक दुश्मन बनने की क्षमता भी रखते हैं । ये किसी भी व्यक्ति को आसानी से पहचान सकते हैं।

इन्‍हें बेवकूफ बनाना आसान नहीं होता हैं। और  ये विश्वासघात के थोड़े से भी संकेत पर सावधान हो जाते हैं । इन लोगों को जांच करना अच्छी तरह से आता हैं ।और किसी भी बात की तह तक पहुंच कर ही रहते हैं ।यदि इन्हे कोइ बात बुरी लग जाए। तो उसे आसानी से भूल नही पाते हैं । और समय आने पर उस बात का बदला भी ले सकते हैं। ये अपने रहस्यों को अच्छी तरह से छुपा कर रखते हैं । और दूसरों के बारे में जानने में अधिक रूची लेते हैं ।

ये अपनी शर्तों पर जीवन जीते हैं । साम दाम और दंढ़ भेद किसी भी तरह से अपने आगे बड़ने की राह सुनिश्चित करते हैं ।
वृश्चिक  राशि वाले  विश्वास करते हैं कि ये अपने भाग्य को अपने नियंत्रण में रखे हुए हैं । मंगल देव वृश्चिक राशि वालो को उर्जा की भरपूर मात्रा उपलब्ध कराते हैं। ये जिन्दगी की चुनौतियों का बिना किसी भय के मुकाबला करतें हैं ।

हर काम के करने में एक विशेष प्रकार की तेजी दिखाते हैं। ये हमेशा सक्रिय रहना चाहते हैं। खाली बैठना इनकी आदत नहीं हैं । मंगल ग्रह से प्रभावित होने के कारण इनके खून मे बल अधिक होता हैं। और कम ही बीमार पड़ते हैं।इनके अन्दर रोगों से लड़ने की अच्छी शमता होती हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *