ग्रहो का परिचय

ज्योतिष में शुक्र देव का परिचय

ज्योतिष के अनुसार शुक्र पत्नी, विवाह, इंद्रियों के सुख, सुविधा, आरामदायक चीज़ों, जुनून, यौन इच्छाओं, वीर्य, आराम, महिला, विवाह, मनोरंजन, करिश्मा, प्यार, प्रेमिका और वाहन आदि से संबंधित है। यह ग्रह आनंद, सौंदर्य, सामाजिक संबंधों, शादी और अन्य प्रकार की भागीदारी से संबंधित है। यह रोमांस की ओर झुकाव का भी सूचक है। शुक्र हमें …

ज्योतिष में शुक्र देव का परिचयRead More »

ज्योतिष में शनि देव का परिचय

ज्योतिष के अनुसार शनि लम्बी आयु, दुख, आपदाओं, मृत्यु, गरीबी, पाप, भय, गोपनीयता, नौकरी, बेईमानी, कर्ज, कठिन परिश्रम, रोग, बाधा, बुढ़ापा, भाग्य, सीमाओं, गरीबी, दासता, क्रूर कर्मों आदि का प्रतीक है। शनि को महान स्वामी कहा जाता है। यह सीमाओं को दर्शाता है। शनि बताता है कि व्यक्ति को कहां पर कड़ी चुनौती और सबसे …

ज्योतिष में शनि देव का परिचयRead More »

ज्योतिष में ब्रहस्पति का परिचय

ज्योतिष के अनुसार बृहस्पति ज्ञान, शिक्षा, धर्म, धन, संतान, भाग्य, स्वास्थ्य, गुरु, बड़े भाई, पति, बुद्धि, शिक्षा, ज्योतिष, तर्क, शास्त्र, भक्ति, त्याग, समृद्धि, विश्वास आदि के साथ-साथ विभिन्न क्षेत्रों में सम्मान प्राप्ति का भी प्रतीक है। कहा जाता है कि बृहस्पति भाग्य को सुधारता है। यह अपने दायरे में आने वाली सभी चीज़ों के प्रभाव …

ज्योतिष में ब्रहस्पति का परिचयRead More »

ज्योतिष में बुध का परिचय

बुध ग्रह मस्तिष्क से संबंधित है। यह ज्ञान तथा बुद्धि देने वाला है जिसका उपयोग करके हम एक स्वस्थ और सार्थक जीवन जीते हैं। बुध विचारों, विभिन्न तरीकों, सूचना और प्रयोगों के जरिए विकास को दर्शाता है। यह संचार, व्याख्या और आत्म-अभिव्यक्ति के कारणों और समझ का प्रतिनिधित्व करता है। बुध किसी व्यक्ति पर क्या …

ज्योतिष में बुध का परिचयRead More »

ज्योतिष में मंगल का परिचय

ज्योतिष के अनुसार मंगल सहन शक्ति, साहस, क्रोध, इच्छा, विरोधियों, अचल सम्पत्ति, दोस्त, दुश्मनी, ऊर्जा, हिंसा, क्रूरता, रक्त, शल्य चिकित्सा, आग, रक्षा, जुनून, घृणा, हिंसा, पाप, बहादुरी, शक्ति आदि का प्रतिनिधि है। अकसर इसे गुस्से और हिंसा से जोड़ा जाता है। यह ग्रह योद्धा का अर्थ दर्शाता है और व्यक्ति को स्वयं का सामना करने …

ज्योतिष में मंगल का परिचयRead More »

ज्योतिष में सूर्य का परिचय

सूर्य को सबसे पुराने ग्रहों में से एक के रूप में जाना जाता है। यह जीवन का प्रतिनिधित्व करता है। सूर्य असल में कोई ग्रह नहीं है भले ही इसे ज्योतिषीय गणना के लिए ग्रह के रूप में देखा जाता है। सूर्य अहंकार और जागरुकता के साथ-साथ शारीरिक ऊर्जा का भी प्रतीक है। इतिहास में …

ज्योतिष में सूर्य का परिचयRead More »

ज्योतिष में चंद्रमा का परिचय

ज्योतिष में चन्द्रमा को मस्तिष्क के रूप में देखा जाता है जो स्वभाव से ग्रहणशील है तथा व्यक्ति के अवचेतन, उसकी भावनाओं और उसके व्यवहार को नियंत्रित करता है। यह आंतरिक जीवन की शक्ति को दर्शाता है और व्यक्ति के दूसरों के प्रति व्यवहार को नियंत्रित करता है। चन्द्रमा एक विशेष प्रभाव छोड़ता है जो …

ज्योतिष में चंद्रमा का परिचयRead More »